Sunday, 2 March 2014

डॉ. प्रेम सिंह पूर्वी दिल्ली से सोशलिस्ट पार्टी के उम्मीदवार होंगे।



सोशलिस्ट पार्टी ने आगामी लोकसभा चुनाव में पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से पार्टी के महासचिव डॉ. प्रेम सिंह को प्रत्याशी बनाया है। डॉ. प्रेम सिंह पूर्वी दिल्ली क्षेत्र के लिए नए उम्मीदवार नहीं हैं। उन्होंने 2009 का लोकसभा चुनाव स्वतंत्र समाजवादी उम्मीदवार के तौर पर लड़ा था और अपने भाषणों, संविधान समर्थक मेनीफेस्टो और सादा चुनाव प्रचार के जरिए अच्छा प्रभाव पैदा किया था। दिल्ली विश्वविद्यालय में हिंदी के प्रोफेसर और उच्च अध्ययन संस्थान, शिमला, के पूर्व फेलो डॉ. प्रेम सिंह पिछले चार दशकों से समाजवादी आंदोलन में सक्रिय हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र जीवन में समाजवादी आंदोलन से जुड़ गए थे। वे पहले समाजवादी जन परिषद (सजप) में काम करते हुए और अब सोशलिस्ट पार्टी के महासचिव के नाते समाज के वंचित तबकों दलित, आदिवासी, पिछड़े, महिला, अल्पसंख्यक, किसान, मजदूर, कारीगर, छोटे व्यापारी आदि के हितों और हकों की लड़ाई लड़ते रहे हैं। इस संघर्ष में वे दिल्ली और देश के अन्य भागों में लगातार सक्रिय रहते हैं।
डॉ. प्रेम सिंह ने समकालीन राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, शौक्षिक विषयों पर गांधीवादी एवं लोहियावादी नजरिए से कई पुस्तकें और अनेक लेख लिखे हैं। साथ ही वे संविधान में निहित समाजवाद, धर्मनिरपेक्षता और लोकतंत्र के मूल्यों में दृ़ढ आस्था रखते हैं। नवउदारवादी और सांप्रदायिक ताकतों के गठजोड़ के खिलाफ उनका संघर्ष सर्वविदित है। नागरिक स्वतंत्रता व मानवाधिकार के लिए होने वाले संघर्ष में वे अग्रणी भूमिका में रहते हैं। उनके लेखन और एक्टिविज्म का युवाओं पर व्यापक प्रभाव है जिसके चलते युवा सच्चाई में समता और धर्मनिरपेक्षता के सिद्घांतों की ओर प्रेरित होते हैं।
मैंने यह वक्तव्य समाजवाद और धर्मनिरपेक्षता के लिए प्रतिबद्ध राजनीतिक पार्टियों, सामाजिक संगठनों, और व्यक्तियों से डॉ. प्रेम सिंह का समर्थन करने के लिए जारी किया है। राजनीति, संसदीय लोकतंत्र और गवर्नेंस को एक गंभीर कार्य मानने वाले नागरिक समाज के वरिष्ठ नुमांइदों, बुद्धिजीवियों, लेखकों, प्रोफेशनलों और एक्टिविस्‍टों से मेरी खास तौर पर अपील है कि वे डॉ. प्रेम सिंह के लिए समर्थन जुटाने का काम करें। मुझे आशा है मीडिया उनकी उम्मीदवारी पर ध्यान देगा। सोशलिस्ट पार्टी के पास होडिर्ंग, बैनर, पोस्टर, झंडे आदि लगाने और बड़ी जनसभाएं/रैलियां करने के लिए फंड नहीं है। लिहाजा, चुनावों में भारी रकम खर्च करके जो नजारा खड़ा किया जाता है उसमें सोशलिस्ट पार्टी के उम्मीदवारों की मौजूदगी दर्ज नहीं हो पाती है। मुझे यह भी विश्वास है कि दिल्ली विश्वविद्यालय, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, जामिया विश्वविद्यालय, इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय के छात्रछात्राएं डॉ. प्रेम सिंह को जिताने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे।
मेरा पक्का भरोसा है कि अपने व्यापक अनुभव और प्रतिबद्धता के चलते डॉ. प्रेम सिंह संसद सदस्य के रूप में राष्ट्र को अच्छी सेवा दे पाएंगे।


जस्टिस राजेंद्र सच्चर
सोशलिस्ट पार्टी के वरिष्ठ सदस्य एवं राष्ट्रीय कार्यकारिणी के विशोष आमंत्रित सदस्य

No comments:

Post a Comment

NEHRU’S ROLE IN INDIA

NEHRU’S ROLE IN INDIA Rajindar Sachar Reverence and hero worship for Jawaharlal Nehru was normal not only with the older gene...