Thursday, 28 September 2017

सोशलिस्ट पार्टी ने रेलवे स्टेशनों को बेचने के विरोध में भारतीय रेल बचाओ धरना

सोशलिस्ट पार्टी ने रेलवे स्टेशनों को बेचने के विरोध में भारतीय रेल बचाओ धरना


पिछले कुछ सालों से शासक वर्ग रेलवे के निजीकरण की कोशिशों में लगा है. मौजूदा भाजपा सरकार ने पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) की आड़ में रेलवे स्टेशनों को निजी हाथों में बेचने की पहल करके पूरी रेलवे का निजीकरण करने की मंशा साफ़ कर दी है. 
सोशलिस्ट पार्टी ने सरकार के इस संविधान-विरोधी और जन-विरोधी फैसले के खिलाफ पूरे देश में जागरूकता अभियान चलाने का फैसला किया है. इस अभियान के तहत पार्टी के कार्यकर्त्ताओं ने 22 जून को सोशलिस्ट पार्टी दिल्ली प्रदेश के कार्यकर्ताओं ने मंडी हाउस से जंतर-मंतर तक 'भारतीय रेल बचाओ' मार्च करके किया. पुनः इस अभियान को गाँव मोहल्लों में सोशलिस्ट पार्टी और सोशलिस्ट युवजन सभा के कार्यकर्ता लेकर जा रहे हैं नागरिकों को रेलवे के निजीकरण के पक्ष में दिए जाने वाले समर्थकों के तर्कों की असलियत समझा रहे हैं . 2 अक्टूबर को 'भारतीय रेल बचाओ' धरने का आयोजन,जंतर-मंतर, दोपहर 12 बजे से 5 बजे तक सोशलिस्ट पार्टी कर रही है | आइये हम सब मिलकर इस अभियान का हिस्सा बने और सरकार के इस संविधान-विरोधी और जन-विरोधी फैसले के खिलाफ अपनी आवाज मजबूत करें |








1 comment:

प्रतिक्रांति के हमसफर

(यह टिप्पणी 2014 की है. हस्तक्षेप पर प्रकाशित हुई थी. 5 साल बाद देश और दिल्ली में अब फिर चुनाव होंगे. टिप्पणी फिर से इसलिए दी जा रही है ...