Saturday, 13 October 2012

खुदरा में विदेशी निवेश नवसाम्राज्यवादी डिजाइन का निर्णायक हिस्सा है - प्रेम सिंह


प्रैस रिलीज


पूंजीवादी विकास ने पहले देश के आदिवासियों को तबाह किया। फिर तीन लाख किसानों को आत्हत्या करने और विस्थापन के लिए मजबूर किया। अब खुदरा में विदेशी बहुराष्ट्रीय कंपनियों को 51 प्रतिशत निवेश का फैसला थोप कर किरयाना व्यापारियों के विनाश की इबारत लिख दी है। कांग्रेस ने संवैधानिक और नैतिक दायित्वों से पूरी मुक्ति पा ली है। यह फैसला सरकार का अपनी जनता के खिलाफ पूंजीवादी साम्राज्यवाद के हित में किया गया है। डा. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के जंतर मंतर पर चल रही क्रमिक भूख हड़ताल के अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि सोशलिस्ट पार्टी तृणमूल कांग्रेस के साथ हैऔर 26 सितंबर के प्रोटेस्ट में हिस्सा लेगी। इस मौके पर सोनीपत से आए पर भारतीय किसान यूनियन के वरिष्ठ नेता ब्रह्म सिंह दहिया ने कहा कि नवउदारवादी हमले औैर दुष्प्रभावों पर लड़ाई टुकड़े-टुकडे में चल रही है। इसे एकजुट करने की सबसे बड़ी जरूरत है। सभी सच्ची समाजवादी ताकतों को तुरंत एका बना कर लनविरोधी फैसलों को उलट देना होगा।  
इस मौके पर बोलते हुए वरिष्ठ समाजवादी विचारक डाॅ. भगवान सिंह ने कहा कि सोशलिस्ट पार्टी का यह प्रयास सराहनीय है। वरिष्ठ समाजवादी डाॅ. अश्वनी कुमार ने कहा कि सपा और बसपा को सबसे पहले इस फैसले का विरोध करना चाहिए था लेकिन उन्होंने ऐसा न करके कांग्रेस को जीवनदान दिया है। वरिष्ठ समाजवादी नेता आत्मप्रकाश खुराना ने कहा कि सोशलिस्ट पार्टी को गांधी और लोहिया के दर्शन के आधार पर समस्याओं का समाधान पेश करना चाहिए। संजय यादव ने कहा कि केवल सोशलिस्ट पार्टी के जुझारु कार्यकर्ता विदेशी निवेश के फैसले से लोहा ले रहे हैं। सोशलिस्ट युवजन सभा के दिल्ली के अध्यक्ष योगेश पासवान ने कहा कि यह अेस्ट केस है। जो विदेशी निवेश के फैसले में पक्ष में हैं वे देश की गरीब जनता के विरोध हैं। उन्होंने देश में चलने वाले आंदोलनों की समीक्षा करते हुए कहा कि उनमें कई ऐसे हैं जो पूंजीवादी व्रूवस्था का विरोध नहीं करते। उनमें समाजवादी और सामाजिक न्यायवादी भी शामिल हैं। एसवाईएस की उपाध्यक्ष मुजु, संयोजक राकेशदूबे, राष्ट्रीय महासचिव निरंजन ने भी संबोधित किया।
इस मौके पर सोशलिस्ट युवजन सभा के कार्यकर्ताओं ने रधुवीर सहाय, नागार्जुन, त्रिलोचन, श्रीकांत वर्मा, और ब्रेख्त की कविताओं का पाठ किया। श्रोताओं ने बड़े चाव से इस नए प्रयोग को काफी पसंद किया।   कविता पाठ का कार्यक्रम कल भी जारी रहेगा।
आज जो साथी भूख हड.ताल पर बैठे उनके नाम इस प्रकार हैं: डाॅ. लयंत कश्यप, डाॅ. सत्यप्रकाश सिंह, निरंजन महतो, हिरण्य हिमकर, केदारनाथ। कार्यक्रम का संचालन हिरण्य हिमकर ने किया। सोशलिस्ट पार्टी का क्रमिक भूख हड़ताल का सिलसिला कल तीसरे दिन भी जारी रहेगा। कल की भूख हड़ताल को वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर, वरिष्ठ समाजवादी नेता राजकुमार जैन, डूटा के उपाध्यक्ष डा. हरीश खन्ना समेत कई साथी भूख हड़ताल को संबोधित करेंगे।  
नीरज सिंह
प्रैस प्रभारी
मोबाइल: 9716634603  


No comments:

Post a Comment

Sachar Saheb : A unique personality with socialist vision

Obituary Sachar Saheb : A unique personality with socialist vision Prem Singh           He had forbidden us to call him ...