Sunday, 9 July 2017

यूपी चुनाव: सांप्रदायिक फासीवाद की खोखली चिंता


प्रेम सिंह
               

      सांप्रदायिकताजातिवाददल-बदल(बाहुबलियोंदागियोंधनपतियों समेत),निम्न स्तरीय आरोप-प्रत्यारोपखैरात,विकास आदि के कोहराम से भरा सात चरणों में फैला यूपी विधासभा चुनाव आज समाप्त हो गया। सभी पक्षों की सांस 11मार्च को आने वाले नतीजों पर अटकी है। चुनाव के पहले चरण से ही मतदान के रुझानों और नतीजों को लेकर अटकलबाजियों का बाजार गरम रहा है। नतीजे जो भी होंइस बहुचर्चित चुनाव की सात विषेशताएं (नकारात्मक) स्पष्‍ट देखी जा सकती हैं : पहलीजीत की दावेदार पार्टियों के शीर्ष नेताओं की जनसभाओं,रैलियोंरोड शो आदि के चलते इस बार मतदाता ही नहींचुनाव लड़ रहे उम्मीदवार भी भीड़ बना दिए गए हैं। अगर उनकी कुछ खबर लगी भी है तो यह कि वे किस जाति,धर्म या परिवार के हैं। दूसरीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की जोड़ी ने चुनाव जीतने के लिए संवैधानिक प्रावधानों के साथ सामान्य नैतिक मर्यादाओं का जो खुलेआम उल्लंघन किया हैवह दर्शाता है उनकी आस्था ही उनमें नहीं है। तीसरीसेकुलर कही जाने वाली पार्टियां पूरे पांच साल सांप्रदायिकता को बढ़ाती और मजबूत करती हैंलेकिन चुनावों के वक्त आरएसएस/भाजपा से लड़ने की जिम्मेदारी मुसलमानों पर डाल दी जाती है। उत्तर प्रदेश में यह खास तौर पर होता है। मजेदारी यह है कि खुद मुसलमान उत्साहपूर्वक यह भूमिका निभाते नजर आते हैं। चौथीमीडिया की खबरों और रिपोर्टिंग में वस्तुनिष्‍ठता और तथ्यात्मकता की गिरावट बदस्तूर जारी है। पांचवी,सांप्रदायिकता की काट में जाति समीकरण से चुनाव जीतने से सांप्रदायिकता नहीं रुकती। छठीकेंद्र हो या राज्यसेकुलर पार्टियों की सत्ता के बावजूद समाज में सांप्रदायिकता की पैठ और फैलाव तेजी से बढ़ता जा रहा है। सातवींसेकुलर नागरिक समाजखास कर चुनाव के वक्त,सांप्रदायिकता पर भारी चिंता जताता है। इस लेख में नागरिक समाज की सांप्रदायिकता को लेकर जताई जाने वाली चिंता पर विचार किया गया है।
                यूपी विधासभा के साथ पंजाब,उत्तराखंडगोवा और मणिपुर विधानसभाओं के चुनाव भी संपन्न हुए हैं। लेकिन नागरिक समाज के सेकुलर खेमे की सारी चिंता यूपी विधानसभा चुनावों को लेकर रही है कि वहां आरएसएस/भाजपा न जीत जाए। आगे बढ़ने से पहले हम एक प्रसंग का उल्लेख करना चाहते हैं। पिछले साल सितंबर के महीने में कनाडा से रामशरण जोशी जी से फोन पर बात हुई थी। उन्होंने फोन पर यूपी चुनाव को लेकर चिंता जताते हुए पूछा था कि वहां क्या होने जा रहा हैबातचीत के दौरान उन्होंने आतुर भाव से कहा कि कुछ भी होकोई जीतेभाजपा नहीं जीतनी चाहिए। मैंने उनसे कहा कि उत्तर प्रदेश में यह बहुत आसान है। अगर प्रदेश की दो प्रमुख सेकुलर कही जाने वाली पार्टियां - समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी - मिल कर चुनाव लड़ें तो भाजपा की पराजय लगभग निश्चित है। उन्होंने निराशा जाहिर की कि ऐसा भला कहां हो पाएगा - दोनों पार्टियों में छत्तीस का आंकड़ा है! हमने कहा कि अगर देश के सेकुलर नागरिक समाज की आरएसएस-भाजपा के सांप्रदायिक फासीवाद को लेकर चिंता सच्ची हैतो सेकुलर कही जाने वाली राजनीतिक पार्टियों को उनकी चिंता पर ध्यान देना होगा। यानी आरएसएस/भाजपा का सांप्रदायिक फासीवाद राजनीतिक पार्टियों के लिए भी सच्ची चिंता का विषय बनेगा।
                हमने जोशी जी से आगे कहा कि चुनाव जीतने के बाद सत्ता के बंटवारे का मसला आसानी से सुलझाया जा सकता है। जीत के बाद मायावती और अखिलेश यादव बारी-बारी से मुख्यमंत्री रहें। इस पर बात न बने तो अखिलेश मुख्यमंत्री रहेंबसपा का कोई नेता उपमुख्यमंत्री रहे और कांग्रेस-रहित विपक्ष मायावती को 2019 में प्रधानमंत्री के उम्मीदवार के रूप में स्वीकार करे। अगर इस पर भी बात न बने तो आधा समय मायावती और आधा समय कोई दूसरा महत्वाकांक्षी नेता प्रधानमंत्री बने। जोशी जी इस सुझाव पर बहुत खुश हुए और कहा कि मैं यह लिखूं और ऐसा हो इसके लिए प्रयास करूं।
                बात आई गई हो गई। हमने लिखना इसलिए मुनासिब नहीं समझा कि सेकुलर नागरिक समाज को धर्मनिरपेक्षता-सांप्रदायिकता के सवाल और समस्या पर हमारा नजरिया पसंद नहीं आता है। इसके दो मुख्य कारण हैं: वह मान कर चलता है कि सांप्रदायिकता के लिए केवल आरएसएस-भाजपा पर प्रहार किया जाना चाहिएऔर धर्मनिरपेक्षता-सांप्रदायिकता के सवाल और समस्या को नवउदारवाद के सवाल और समस्या से नहीं उलझाना चाहिए। जहां तक प्रयास करने की बात हैपिछले लोकसभा चुनाव के करीब एक साल पहले से जस्टिस राजेंद्र सच्चरभाई वैद्य और मैंने कामरेड बर्द्धन के साथ मुलाकात और पत्राचार करके यह कोशिश की थी कि कांग्रेस और भाजपा से अलग चुनाव-पूर्व गठबंधन बनाया जाना चाहिए। उस गठबंधन में नवउदारवाद का विरोध करने वाली छोटी राजनीतिक पार्टियों और जनांदोलनकारी समूहों को भी शामिल किया जाए। यह सुझाव भी था कि राजनीति में तीसरी शक्ति कही जाने वाली पार्टियां किसी एक नेता का नाम आगे करके मिल कर चुनाव लड़ें। हमने कामरेड एबी बर्द्धन का नाम सुझाया थायह जोड़ते हुए कि संबद्ध पार्टियां किसी अन्य नाम पर भी सहमति बना सकती हैं। इस आशय का एक लेख भी हमने युवा संवादऔर मेनस्‍ट्रीम’ में लिखा था। नवउदरवाद विरोधी छोटी राजनीतिक पार्टियों/संगठनों को उपेक्षित करके चलने वाले बड़े नेताओं को तो खैर क्या ध्यान देना थाधर्मनिरपेक्ष नागरिक समाज ने भी उस प्रयास और सुझाव का नोटिस नहीं लिया। क्योंकि तब चुनाव का केंद्रीय मुद्दा केवल भाजपा विरोध नहींनवउदारवादी नीतियों का विरोध होता,जो नागरिक समाज को स्वीकार्य नहीं है। 
                अभी की स्थिति में भी हमारा एक सुझाव है कि बसपा या सपा-कांग्रेस गंठबंधन में एक की बहुमत जीत के बावजूद विधानसभा में मिली-जुली सरकार बनाई जाए। इससे 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए एक विश्‍वसनीय आधार तैयार हो सकेगासाथ ही राज्यसभा में विपक्ष की मजबूती बनेगीजिसके आधार पर राष्‍ट्रपति-उपराष्‍ट्रपति के चुनाव में प्रभावकारी हस्तक्षेप किया जा सकेगा। अगर जीत भाजपा की होती है तो दोनों पार्टियां विपक्ष में तालमेल बना कर भाजपा की सांप्रदायिक मुहिम को निरस्त करने का काम कर सकती हैं।    
                बिहार विधानसभा चुनाव के पहले और दौरान भी नागरिक समाज की कमोबेश यही स्थिति थी। उसकी पुकार थी कि आरएसएस/भाजपा को बिहार में रोकिए,वरना पूरे देश में फासीवाद फैल जाएगा। उस चुनाव में भाजपा हार गई थी। इसके बावजूद वैसी सभी घटनाएं जिन्हें फासीवाद की दस्तक या आगमन कहा जाता हैएक के बाद एक होती जा रही हैं। प्रोफेसर किरवले की हत्या अभी हाल में हुई है। फिर भी नागरिक समाज ने अपनी सारी आशाएं अब यूपी की जीत पर टिका दी हैं। बिहार की तरह यूपी में भी नागरिक समाज को भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले नेताओं से उनकी राजनीति के चरित्र को लेकर कोई शिकायत नहीं है। रिहाई मंच के अध्यक्ष मोहम्मद शोएब या ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के प्रवक्ता एस दारापुरी इन नेताओं की धर्मनिरपेक्षता या किसी अन्य नीति/कार्यक्रम पर कोई सवाल उठाते हैं तो नागरिक समाज का उनके प्रति नाराजगी और नकार का रवैया होता है। नागरिक समाज के कुछ अति उत्साही नुमाइंदों ने यहां तक घोषणा कर डाली कि किसी सीट पर दो वोट से भी भाजपा का उम्मीदवार जीतेगा तो उसकापाप’ उन छोटी पार्टियों के उम्मीदवारों या निर्दलियों पर जाएगा जो चुनाव लड़ने की हिमाकत कर रहे हैं। अर्थात यूपी में नागरिक समाज भाजपा को हराने के लिए लोकतंत्र को गंवा देने की हद तक चला गया है।
                यह प्रकट तथ्य है कि सेकुलर पार्टियों की जीत से समाज में सांप्रदायिकता,जातिवादकूपमंडूकताअंधविश्‍वास का फैलाव नहीं रुकता है। बल्कि यह फैलाव अनिवासी भारतीयों तक हो गया है। सांप्रदायिकताजातिवादकूपमंडूकता,अंधविश्‍वास में आकंठ डूबे ज्यादातर अनिवासी भारतीय मोदी और केजरीवाल के अंध समर्थक हैं। कहने की जरूरत नहीं कि कि वे नवउदारवाद के भी अंध समर्थक हैं और नवउदारवाद विरोधी विचारआंदोलन,राजनीति के अंध विरोधी। टीम केजरीवाल ने पंजाब विधानसभा चुनाव में अनिवासी पंजाबियों का चुनाव जीतने के लिए जम कर इस्तेमाल किया। अब वे गुजरात विधानसभा चुनाव में अनिवासी गुजरातियों पर काम कर रहे हैं। यूपी का ही प्रमाण लें और पीछे की रामकहानी छोड़ कर सांप्रदायिकता की हाल की कुछ विशिष्‍ट घटनाओं पर गौर करें जहां पिछले 15 सालों से सेकुली सरकारें हैं। सेकुलर सत्तारूढ़ सपा सरकार और विपक्षी बसपा के रहते मुजफ्फर नगर के दंगे हुएमुसलमानों को उनके घरों-गांवों से खदेड़ा गयाअखलाक की हत्या हुईकई बेगुनाह मुस्लिम युवकों को आतंकवादी बता कर झूठे मुकदमों में फंसाया गया (रिहाई मंच द्वारा ऐसे 14बेगुनाह मुस्लिम युवकों की रिहाई और विशेष कार्य बल (एसटीएफ) द्वारा 22दिसंबर 2007 को बाराबंकी रेलवे स्टेशन से खालिद मुजाहिद और तारिक कासमी की विस्फोटकों सहित गिरफ्तारी के मामले में जस्टिस आरडी निमेश कमीशन की रिपोर्ट इसका उदाहरण हैं)। सपा-बसपा ने ने आज तक सांप्रदायिक फासीवाद के खिलाफ कोई आंदोलन उत्तर प्रदेश में नहीं चलाया है। इनकी धर्मनिरपेक्षता कुछ मुसलमानों को टिकट और छोटे-मोटे पद/पुरस्कार देने तक सीमित है। बनारस भी यूपी में है। सेकुलर नागरिक समाज का चहेता केजरीवाल बनारस में चुनाव लड़ कर मोदी को जिता देता है। उसने अपना सारा वजन केजरीवाल के पीछे डाल दिया। नागरिक समाज को तब सेकुलर सपा-बसपा-कांग्रेस याद नहीं आईं,जिनकी वह आज कसमें खा रहा है। केजरीवाल ने जब गंगा में डुबकी लगा कर बाबा विश्‍वनाथ के मंदिर में ढोक लगाई तो एक नागरिक समाजी ने निर्लज्जतापूर्वक कहा कि इससे गंगा कुछ पवित्र ही हुई है!
      दरअसलसेकुलर नागरिक समाज की सांप्रदायिकता पर जताई जाने वाली चिंता खोखली है। सांप्रदायिकता विरोध की आड़ में वह अपने वर्ग-स्वार्थ की पूर्ति करता है और उसका वर्ग-स्वार्थ नवउदारवाद के साथ जुड़ा है। मुक्तिबोध ने भारतीय नागरिक समाज के इस वर्ग-चरित्र को नेहरू युग में ही पहचान लिया था।
                जिन लोगों ने मोदी को चुना है नागरिक समाज को उन्हें उनके विवेक पर छोड़ देना चाहिए। आशा करनी चाहिए कि वे अपने चुनाव की समीक्षा करेंगे और अगले चुनाव में बेहतर विकल्प चुनेंगे। नागरिक समाज मोदी और भक्तों’ की खिल्ली उड़ाना भी छोड़ दे। इससे भाजपा के भीतर और भाजपा के बाहर की राजनीति में उन्हें मजबूती मिलती है। बेहतर यह होगा कि नागरिक समाज मोदी को लाने में अपनी भूमिका के बारे में ईमानदारी से विचार करे। तब उसे पता चलेगा कि मोदी को लाने में पहल उसकी थीजनता बाद में चपेट में आई। कांग्रेस के दो टर्म हो चुके थे। नवउदारवाद के तहत विषमताबेरोजगारी,मंहगाई और भ्रष्‍टाचार ही बढ़ते हैंवह कांग्रेस के शासन में भी हुआ। जनता ने कांग्रेस को चुना थाक्योंकि उसके पहले की एनडीए सरकार में विषमताबेरोजगारी,मंहगाई और भ्रष्‍टाचार बेतहाशा बढ़ा था,जिसे शाइनिंग इंडिया’ के सरकारी प्रचार से छिपाने की भरसक कोशिश की गई थी। नागरिक समाज कोशिश कर सकता था कि कांग्रेस-भाजपा से अलग तीसरे मोर्चे की सरकार बनेताकि जनता को नवउदारवादी दुश्‍चक्र से थोड़ी राहत मिल सके। लेकिन नागरिक समाज इंडिया एगेंस्ट करप्‍शन,जिसे एनजीओबाजोंकुछ नामी प्रोफेशनलों,पुरस्कृत हस्तियोंधर्मध्यानयोग आदि का धंधा करने वालों ने आरएसएस और कारपोरेट घरानों के साथ मिल कर नवउदारवाद को बचाने के लिए खड़ा किया थाके साथ आम आदमी’ बन कर एकजुट हो गया। नवउदारवाद के खिलाफ खड़ा किया गया पिछले 25 सालों संघर्ष तहस-नहस कर दिया गया। दिल्ली की जीत पर हवन करके उसे ईश्‍वर का वरदान बताते हुए नागरिक समाज के नए नायक ने दिल्ली में बड़े उद्योगपतियों से हाथ मिला कर कहा कि वह पूंजीवाद के साथ है।
      भारत में सांप्रदायिकता पूंजीवाद की कोख से जन्मी है। पूंजीवाद के मौजूदा चरण नवउदारवादजो तीसरी दुनिया के संदर्भ में नवसाम्राज्यवाद हैके तहत उसका बढ़ते जाना तय है। लिहाजानागरिक समाज को सांप्रदायिकता की खोखली चिंता छोड़ कर ईमानदारी से 2019 के लोकसभा चुनावों में नवउदारवाद विरोध का ठोस विकल्प बनाने की चिंता करनी चाहिए।
8 मार्च 2017  

No comments:

Post a Comment

Sachar Saheb : A unique personality with socialist vision

Obituary Sachar Saheb : A unique personality with socialist vision Prem Singh           He had forbidden us to call him ...